Skip to content
Blog

GST Revised Invoice Detail Analysis 

GST Revised Invoice Detail Analysis 

 
  • जब एक सप्लायर की सप्लाई की वैल्यू की Registertion Limit को touch कर लेता है तो वो फिर Registered होने के लिए GST में liable हो जाता है – Sec 22(1) .

 

  • अब लॉ के हिसाब से जिस दिन वो liable हुआ है उसके 30 दिन के अंदर उसको Registeration के लिए Apply करना होता है – Sec 25(1).
Advertisements

 

  • अब जब वो Registeration के लिए Apply करता है और जब उसका registeration Approve होकर आता है, उस समय के उसकी Supply को GST Act में लाने के लिए Revised Invoice का कांसेप्ट लाया गया है Act में – Sec 31(1)(a) इसमे लिखा गया है कि ये Revised Invoice “Effective Date of Registeration till date of issue of रेगिस्ट्रशन Certificate” के period में ही काम आएगा उस Registered Perosn के।

 

  • अब Rule 53 CGST Rule 2017 भी डील करता है Revised Invoice से

 

  • तो मतलब ये है सीधा सा, की ये सप्लायर उस बीच वाले period के लिए, पहले से इशू किये गए इनवॉइस का Revised Invoice इशू कर सकता है ताकि उसका जो खरीददार है, उसको उसकी परचेस का ITC मिल जाये, बस यही role है GST में Revised Invoice का

 

  • अब इसमे एक इशू आता है कि जब इस बीच वाले पीरियड में उसने जो माल खरीद किया है, उसको उस खरीदे माल पर ITC मिलेगा या नही, तो इसका जवाब है नही, क्योंकि जब वो माल खरीद किया था तब वो Registered था नही, और उसका सप्लायर जो कि already Registered parosn है वो तो अब उसको Revised Invoice दे नही सकता क्योंकि वो उसको allow नही है ऊपर दिए हिसाब से, तो उसको उसकी खरीद का ITC नही मिलेगा।

 

  • दूसरा कुछ लोगो का ये सोचना है कि अगर उसके Supplier ने अगर अपना GSTR 1 revise कर दिया हो तो वो उसके 2A में दिख जाएगी तो फिर वो उसका ले सकता है क्या, तो इसमे में यहा ये कहना चाहूंगा कि Sec 16(2)(a) ये बोलता है कि Registered Person के पास टैक्स इनवॉइस होना चाहिए ITC के लिए, फिर Sec 31(1) बोलता है कि टैक्स इनवॉइस में क्या होना चहिए जो CGST Rule बताएंगे, फिर Rule 46(d) ये बोलता है कि टैक्स इनवॉइस में Recipient का GST No होना चाहिए, अब इस केस में वो तो होगा नही क्योंकि वो उस डेट जब टैक्स इनवॉइस इशू हुआ, जो रजिस्टर्ड ही नही था GST में, तो मेरे हिसाब से जो Sec 16 से बाहर हो गया है तो उसको अगर 2A में भी दिखेगा तो भी ITC नही मिलेगा, क्योंकि Law सुप्रीम है ना कि फॉर्म

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *